Wednesday , September 30 2020
Breaking News

श्री दरबार साहिब के हुक्मनामे और कीर्तन पर मलकीयत का दावा गुरबाणी का निरादर, जत्थेदार कार्यवाही करें -तृप्त बाजवा

श्री दरबार साहिब के हुक्मनामे और कीर्तन पर मलकीयत का दावा गुरबाणी का निरादर, जत्थेदार कार्यवाही करें -तृप्त बाजवा
चंडीगढ़, 13 जनवरी:
पंजाब के ग्रामीण विकास एवं पंचायत मंत्री तृप्त राजिन्दर सिंह बाजवा ने आज ज़ोर देकर कहा है कि श्री दरबार साहिब के हुक्मनामे और गुरबाणी कीर्तन पर अपनी मलकीयत का दावा करना गुरबाणी का घोर निरादर है और यह निरादर करने वाले दोषियों के विरुद्ध सिख पम्पराओं और मर्यादा के अनुसार तुरंत कार्यवाही होनी चाहिए।
श्री अकाल तख्त साहिब के जत्थेदार को यह कार्यवाही करने की अपील करते हुए श्री बाजवा ने कहा, ‘‘सिख गुरू साहिबान द्वारा उच्चारण की गई पवित्र बाणी पूरे संसार में बसते वाले प्राणी मात्र के भले के लिए है और पूरा सिख समाज गुरबाणी का रखवाला है, परन्तु मालिक नहीं। इसलिए श्री दरबार साहिब का पवित्र हुक्मनामा किसी एक व्यक्ति या संस्था की जागीर नहीं हो सकता।’’ उन्होंने कहा कि अकाली दल के प्रधान सुखबीर सिंह बादल की मलकीयत वाले टीवी चैनल द्वारा श्री दरबार साहिब में हर रोज़ प्रात:काल श्री गुरू ग्रंथ साहिब से लिए जाने वाले पवित्र हुक्मनामे पर केवल अपना हक होने का किया गया दावा गुरबाणी के सर्व साझे संदेश से बिल्कुल विपरीत है पर यह दावा गुरबाणी का घोर निरादर है।
श्री बाजवा ने शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी द्वारा हुक्मनामा और गुरबाणी कीर्तन के प्रसारण के हक किसी टीवी चैनल को बेचने के अधिकार को चुनौती देते हुए कहा कि स्वयं शिरोमणि कमेटी भी गुरबाणी की मालिक नहीं है और गुरबाणी को घर-घर पहुंचाना ही इसकी जि़म्मेदारी है। इसलिए वह आगे किसी अन्य संस्थान को गुरबाणी कीर्तन के प्रसारण के हक कैसे बेच सकती है और वह भी केवल लाभ कमाने वाले एक निजी व्यापारिक संस्थान को। उन्होंने दोष लगाया कि ऐसा करके शिरोमणि कमेटी ने गुरबानी कीर्तन और श्री दरबार साहिब दोनों को ही व्यापार की वस्तु बना दिया है।
पंचायत मंत्री ने दोष लगाया कि बादल परिवार ने अपने अन्य कारोबारों की तरह श्री दरबार साहिब से गुरबानी कीर्तन के सीधे प्रसारण को भी अपना एक नया कारोबार बनाने के लिए शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी पर दबाव डाल कर अपनी मलकीयत वाले टीवी चैनल को प्रसारण के हक दिलाए।
श्री बाजवा ने अकाल तख्त साहिब के जत्थेदार से अपील की है कि वह शिरोमणि कमेटी को हिदायत करें कि वह गुरबाणी कीर्तन के सीधे प्रसारण के लिए टीवी चैनलों और डिजिटल मीडिया के संस्थानों को सुविधा प्रदान करने का बंदोबस्त करे। उन्होंने कहा कि इससे गुरबाणी के सर्व साझे संदेश को घर-घर पहुँचाने में भी मदद मिलेगी और किसी एक चैनल या संस्थान को प्रसारण के हक देने का मामला भी सुलझ जायेगा।
उन्होंने कहा कि पूरे सिख पंथ की सत्तर के दशक से यह तीव्र इच्छा रही है कि श्री दरबार साहिब से गुरबाणी कीर्तन का सीधा प्रसारण किया जाये और कीर्तन के सीधे प्रसारण को व्यापार बनाना सिख पंथ की भावनाओं के बिल्कुल विपरीत है। केबल टीवी शुरू होने पर शिरोमणि कमेटी ने यह कहा था कि वह ऐसा प्रबंध करेगी जिससे निश्चित की गई मर्यादा को मानने वाले सभी टीवी और रेडियो चैनलों को गुरबाणी कीर्तन के प्रसारण के लिए मुफ़्त सिगनल मुहैया करवाया जायेगा। परन्तु बादल परिवार के दबाव अधीन यह प्रस्ताव छोड़ कर उनके टीवी चैनल को सभी हक दे दिए गए।
श्री बाजवा ने श्री अकाल तख्त साहिब के जत्थेदार से अपील की कि वह शिरोमणि कमेटी द्वारा बादल परिवार की मलकीयत वाले टीवी चैनल के साथ किये गए समझौते को सार्वजनिक करें जिससे पूरे सिख पंथ को इसकी वास्तविकता का पता लग सके। उन्होंने कहा कि जत्थेदार साहिब शिरोमणि कमेटी को यह हिदायत करें कि वह मर्यादा में रह कर गुरबाणी कीर्तन प्रसारित करने के इच्छुक मीडिया संस्थाओं को सिगनल मुहैया कराए।
उन्होंने जत्थेदार साहिब को याद करवाते हुए कहा कि गुरू के नाम पर जीने वाले पंजाब की विधान सभा द्वारा भी 6 नवंबर को इस सम्बन्धित सर्वसहमति से प्रस्ताव पास करके भी उनको विनती की गई थी। इस सम्बन्धी उन्होंने स्वयं एक चि_ी लिख कर भी जत्थेदार साहिब को विनती की थी।
श्री बाजवा ने कहा कि उनकी तरफ से इस मामले सम्बन्धी आवाज़ उठाने का एकमात्र मकसद गुरबाणी और श्री दरबार साहिब का एक परिवार द्वारा व्यापारिक प्रयोग को ख़त्म कराना है।

About admin

Check Also

ਘਰੇਲੂ ਇਕਾਂਤਵਾਸ ਵਿੱਚ ਤਕਰੀਬਨ 47,502 ਮਰੀਜ਼ ਸਿਹਤਯਾਬ ਹੋਏ: ਬਲਬੀਰ ਸਿੱਧੂ

ਘਰੇਲੂ ਇਕਾਂਤਵਾਸ ਵਿੱਚ ਤਕਰੀਬਨ 47,502 ਮਰੀਜ਼ ਸਿਹਤਯਾਬ ਹੋਏ: ਬਲਬੀਰ ਸਿੱਧੂ ਸੂਬੇ ਵਿੱਚ ਮਰੀਜ਼ਾਂ ਦੇ ਠੀਕ …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: