Subscribe Now

* You will receive the latest news and updates on your favorite celebrities!

Trending News

Blog Post

बच्चों की बुनियादी साक्षरता को सीमित करने के लिए भाषा की पढ़ाई जरूरी, विनीश मैनन…
Lifestyle

बच्चों की बुनियादी साक्षरता को सीमित करने के लिए भाषा की पढ़ाई जरूरी, विनीश मैनन… 

बच्चों की बुनियादी साक्षरता को सीमित करने के लिए भाषा की पढ़ाई जरूरी, विनीश मैनन**’

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

पटिआला
प्रारंभिक बाल्यावस्था देखभाल और शिक्षा’ के क्षेत्र में मात्र भाषा को अपनाकर, राष्ट्रीय शिक्षा नीति के अंतर्गत बड़े सुधार किये जा रहे हैं I ये व्यापक परिवर्तन शिक्षा प्रणाली में अनिवार्य रूप से बच्चों की शिक्षा के पहले 5 वर्षों में आवश्यकताओं और अंतराल को ध्यान में रखते हुए किए गए थे।
यह बात श्री विनीश मेनन, मुख्य कार्यकारी अधिकारी ने पेश किए
उन्होंने कहा कि हालांकि इसे सही दिशा में एक कदम माना जाता है, लेकिन कुछ लोगों ने इसकी आलोचना भी की। तथ्य यह है कि भारत में आने वाले वर्षों में युवा वयस्कों की एक बड़ी आबादी होगी, यह जरूरी है कि इन बच्चों को उनकी स्थानीय भाषा में प्रारंभिक शैक्षिक पाठ्यक्रम की बेहतर समझ के लिए पढ़ाया जाए। विदेशी भाषाओं को उन पर लागू नहीं किया जाना चाहिए क्योंकि उन्हें इसे समझना मुश्किल होगा।

 

श्री विनीश मेनन, मुख्य कार्यकारी अधिकारी – शिक्षा, कौशल और परामर्श सेवाएं बताते हैं की लगभग 70 प्रतिशत स्कूल जाने वाले बच्चे सरकारी स्कूलों में पढ़ते हैं। ये स्कूल ग्रामीण क्षेत्रों की सेवा करते हैं और एक प्रारंभिक चरण में विदेशी भाषाओं के संपर्क में आने से उनका संपर्क कट सकता है, जिससे ड्रॉप-आउट में बढ़त या कम नामांकन दर हो सकती है।

Related posts

Leave a Reply

Required fields are marked *