` पंचर लगाने वाले की बेटी बनी रेवाड़ी की टॉपर.. – Azad Tv News
Breaking News
Home » Breaking News » पंचर लगाने वाले की बेटी बनी रेवाड़ी की टॉपर..

पंचर लगाने वाले की बेटी बनी रेवाड़ी की टॉपर..

छोरियो ने किया कमाल…
​पंचर लगाने वाले की बेटी बनी रेवाड़ी की टॉपर
93 प्रतिशत अंक हासिल कर किया जिले का नाम रोशन
शिक्षक बनकर लोगो को शिक्षित करना चाहती है ज्योति
हरियाणा में रेवाड़ी तो रेवाड़ी में बोडिया कमालपुर रहा अव्वल
स्कूल के कुल 78 छात्रों में 12 ने की मैरिट हासिल
रेवाड़ी, 19 मई
एंकर:
​ बेटियां आज किसी भी क्षेत्र में बेटों से पीछे नहीं हैं। अक्सर सार्वजनिक मंचों पर कहे जाने वाले इस वाक्य को आज 12वीं कक्षा के परीक्षा परिणाम में रेवाड़ी की बेटियों ने साकार कर दिया है और हरियाणा में रेवाड़ी तो रेवाड़ी में बोडिया कमालपुर अव्वल रहा।
रेवाड़ी की छोरियो ने ऐसा कमाल किया कि टायर पंचर लगाने वाले एक शख्स की बेटी ने 93 प्रतिशत अंक हासिल कर रेवाड़ी जिले में टॉपर कर दिया। इतना ही नहीं, इसी चल में पढ़ने वाली साक्षी ने 89 प्रतिशत अंक हासिल किए हैं।
आपको बता दें कि आज आए 12वीं कक्षा के परीक्षा परिणाम में रेवाड़ी जिले का परीक्षा परिणाम 72.43 प्रतिशत रहा, जिसमे अकेले गांव बोडिया कमालपुर स्थित रजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय अव्वल रहा और इस स्कूल का परीक्षा परिणाम 82.3 प्रतिशत रहा और स्कूल के कुल 78 बच्चों में से 12 बच्चों ने मैरिट हासिल की।
मैरिट हासिल करने वाले छात्रों में ज्योति ने 93 और साक्षी ने 89 प्रतिशत अंक हासिल किए।

​ ज्योति के पिता महिपाल हाइवे पर टायर पंचर की दुकान चलते हैं तो साक्षी के पिता इसी स्कूल में लेक्चरर हैं। इन  ​दोनों ही छात्राओं का मकसद उच्च शिक्षा प्राप्त कर शिक्षक बनना है।

इस बड़ी उपलब्धि पर स्कूल स्टाफ व ग्राम पंचायत की ओर से मिठाई बांटकर ख़ुशी का इजहार किया गया और सभी ने इन छात्राओं को बधाई दी।

​वहीं इसे लेकर स्कूल प्रबंधन का कहना है कि 12वीं क्लास पास करने के बाद जिन बच्चों के अभिभावक उन्हें नहीं पढ़ा सकते, उनके किये स्कूल स्टाफ व ग्राम पंचायत के सहयोग से राहत कोष बनाया हुआ है, ताकि उन्हें आगे पढ़ाया जा सके। ​इस फंड में स्कूली बच्चे भी अपना सहयोग करते हैं।
​क्या है इस स्कूल की खासियत, आइए हम आपको बताते हैं:
स्कूल को देखकर कोई नहीं कह सकता कि यह कोई सरकारी स्कूल होगा​। यहां पर वो तमाम सुविधाएं मौजूद हैं, जोकि निजी स्कूलों में देखने को मिलती हैं, जिनमे छात्रों के लिए लैब, लाइब्रेरी, मॉडल शौचालय, अलग से ड्रेस, टाई-बैल्ट व आई कार्ड शामिल हैं। इतना ही नहीं, सभी बच्चे पूरी तरह अनुशासन में नजर आते हैं और आसपास के गांव ही नहीं रेवाड़ी शहर तक से बच्चे इस स्कूल में शिक्षा ग्रहण करने के लिए आते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

x

Check Also

ਸੰਗਰੂਰ ਅਧੀਨ ਆਉਂਦੇ 7 ਵਿਧਾਨ ਸਭਾ ਹਲਕਿਆਂ ਵਿੱਚ ਸਥਾਪਤ 1325 ਪੋਲਿੰਗ ਬੂਥਾਂ ਵਿੱਚ ਵੋਟਰਾਂ ਦੀ ਸੁਵਿਧਾ ਲਈ ਪੀਣ ਵਾਲਾ ਸਾਫ਼ ਪਾਣੀ, ਬਿਜਲੀ, ਹਵਾ..,

ਸਮੂਹ ਸਹਾਇਕ ਰਿਟਰਨਿੰਗ ਅਧਿਕਾਰੀਆਂ ਅਤੇ ਨੋਡਲ ਅਧਿਕਾਰੀਆਂ ਨਾਲ ਸਮੀਖਿਆ ਮੀਟਿੰਗ * ਚੋਣ ਕਮਿਸ਼ਨ ਦੀਆਂ ਹਦਾਇਤਾਂ ...

ਕਾਉਂਸਲੇਟ ਜਨਰਲ ਆਫ਼ ਇੰਡੀਆ ਨੇ ਫਰੈਂਕਫਰਟ ਵਿਖੇ ਧੂਮਧਾਮ ਨਾਲ ਮਨਾਈ ਵਿਸਾਖੀਭੰਗੜੇ, ਗਿੱਧੇ ਅਤੇ ਪੰਜਾਬੀ ਲੋਕ ਕਲਾਕਾਰਾਂ ਦੀਆਂ ਪੇਸ਼ਕਾਰੀਆਂ ਨੇ ਸਮਾਗਮ ਨੂੰ ਚਾਰ-ਚੰਨ ਲਾਏ

ਕਾਉਂਸਲੇਟ ਜਨਰਲ ਆਫ਼ ਇੰਡੀਆ ਨੇ ਫਰੈਂਕਫਰਟ ਵਿਖੇ ਧੂਮਧਾਮ ਨਾਲ ਮਨਾਈ ਵਿਸਾਖੀ ਭੰਗੜੇ, ਗਿੱਧੇ ਅਤੇ ਪੰਜਾਬੀ ...