` कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने अमृतसर में जनरल अलार्ड की प्रतिमा स्थापित करने के लिए सांस्कृतिक मामलों के विभाग को रूप-रेखा बनाने के लिए कहा.. – Azad Tv News
Breaking News
Home » Breaking News » कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने अमृतसर में जनरल अलार्ड की प्रतिमा स्थापित करने के लिए सांस्कृतिक मामलों के विभाग को रूप-रेखा बनाने के लिए कहा..

कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने अमृतसर में जनरल अलार्ड की प्रतिमा स्थापित करने के लिए सांस्कृतिक मामलों के विभाग को रूप-रेखा बनाने के लिए कहा..

मुख्यमंत्री कार्यालय, पंजाब
चंडीगढ़, 11 अक्तूबर:
पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने आज शेर-ए-पंजाब महाराजा रणजीत सिंह की घुड़सवार सेना ‘फ़ौज-ए-ख़ास ’ के प्रमुख फरैंकोइस अलार्ड की प्रतिमा अमृतसर में स्थापित करने के लिए पर्यटन और सांस्कृतिक मामलों के विभाग को रूप-रेखा बनाने के निर्देश दिए हैं।
मुख्यमंत्री ने यह हिदायतें सैंट -ट्रोपेज़ के डिप्टी मेयर के हेनरी प्रीवोस्ट अलार्ड जो जनरल फरैंकोइस अलार्ड के परिवार में से हैं, के नेतृत्व में एक प्रतिनिधिमंडल के साथ मुलाकात के दौरान दी। गौरतलब है कि हेनरी अलार्ड, जनरल अलार्ड की चौथी पीढ़़ी के हैं।
 मुख्यमंत्री ने कहा कि यह प्रयास स्व. जनरल अलार्ड की बहादुरी संबंधी नौजवानों को अवगत करवाने में सहायक होगा। उन्होंने कहा कि यह प्रतिमा महान फ़ौजी रणनीतिकार को श्रद्धाँजलि होगी और फ्रांस एवं भारत के साथ-साथ सैंट -ट्रोपेज़ और पंजाब के मध्य संबंधों की जड़ों को और मज़बूत करेगा।
प्रतिनिधिमंडल ने मुख्यमंत्री को अगले वर्ष जून महीने में सैंट -ट्रोपेज़ में भारत-फ्रांस फ़ौजी इतिहास की अमीर विरासत के प्रसार के लिए करवाए जा रहे वार्षिक समागम में विशेष मेहमान के तौर पर शामिल होने का न्योता दिया। कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने इस आमंत्रण के लिए प्रतिनिधिमंडल का धन्यवाद करते हुए आगामी लोक सभा चुनाव के मद्देनजऱ व्यस्तता होने के कारण शामिल होने से असमर्थता ज़ाहिर की।
  प्रतिनिधिमंडल की अपील का समर्थन करते हुए कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने वार्षिक समागम के औपचारिक ऐलान के लिए इस वर्ष दिसंबर महीने में दिल्ली में होने वाले समारोह में शामिल होने के लिए सहमति दी।
मुख्यमंत्री ने प्रतिनिधिमंडल सदस्यों को अपनी पुस्तक ‘का लास्ट सनसैट्ट ’ भेंट की। यह पुस्तक सिख राज्य के उतार-चढ़ाव के वृतांत के अलावा एंग्लो -सिख युद्धों और महाराजा दलीप सिंह की देश निकाला की घटनाओं पर अधारित है। उन्होंने प्रतिनिधिमंडल को फ्रांस के नौजवानों को भी इस बात के प्रति जागरूक करने के लिए कहा कि कैसे महाराजा रणजीत सिंह की फ़ौज तैयार करने में जनरल अलार्ड को उनके बहादुरी भरे कारनामों और बेमिसाल योगदान स्वरूप उनको पंजाबियो ने बहुत सत्कार दिया जिससे विशाल सिख राज्य की सृजना संभव हुई।
यह जि़क्रयोग्य है कि दोनों तरफ़ सदभावना, स्नेह और दोस्ताना भावना को उत्साहित करने के लिए वर्ष 2016 में जनरल अलार्ड के जन्म स्थान सैंट -ट्रोपेज़ में महाराजा रणजीत सिंह की प्रतिमा स्थापित की गयी थी।
इस अवसर पर मुख्यमंत्री के साथ उनके मीडिया सलाहकार रवीन ठुकराल और प्रमुख सचिव तेजवीर सिंह उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

x

Check Also

ਸੰਗਰੂਰ ਅਧੀਨ ਆਉਂਦੇ 7 ਵਿਧਾਨ ਸਭਾ ਹਲਕਿਆਂ ਵਿੱਚ ਸਥਾਪਤ 1325 ਪੋਲਿੰਗ ਬੂਥਾਂ ਵਿੱਚ ਵੋਟਰਾਂ ਦੀ ਸੁਵਿਧਾ ਲਈ ਪੀਣ ਵਾਲਾ ਸਾਫ਼ ਪਾਣੀ, ਬਿਜਲੀ, ਹਵਾ..,

ਸਮੂਹ ਸਹਾਇਕ ਰਿਟਰਨਿੰਗ ਅਧਿਕਾਰੀਆਂ ਅਤੇ ਨੋਡਲ ਅਧਿਕਾਰੀਆਂ ਨਾਲ ਸਮੀਖਿਆ ਮੀਟਿੰਗ * ਚੋਣ ਕਮਿਸ਼ਨ ਦੀਆਂ ਹਦਾਇਤਾਂ ...

ਕਾਉਂਸਲੇਟ ਜਨਰਲ ਆਫ਼ ਇੰਡੀਆ ਨੇ ਫਰੈਂਕਫਰਟ ਵਿਖੇ ਧੂਮਧਾਮ ਨਾਲ ਮਨਾਈ ਵਿਸਾਖੀਭੰਗੜੇ, ਗਿੱਧੇ ਅਤੇ ਪੰਜਾਬੀ ਲੋਕ ਕਲਾਕਾਰਾਂ ਦੀਆਂ ਪੇਸ਼ਕਾਰੀਆਂ ਨੇ ਸਮਾਗਮ ਨੂੰ ਚਾਰ-ਚੰਨ ਲਾਏ

ਕਾਉਂਸਲੇਟ ਜਨਰਲ ਆਫ਼ ਇੰਡੀਆ ਨੇ ਫਰੈਂਕਫਰਟ ਵਿਖੇ ਧੂਮਧਾਮ ਨਾਲ ਮਨਾਈ ਵਿਸਾਖੀ ਭੰਗੜੇ, ਗਿੱਧੇ ਅਤੇ ਪੰਜਾਬੀ ...